Shani jayanti images hd

Happy Shani jayanti images hd in hindi and english :-

Shani jayanti ki aapko aur aapke parivar ko dher sari shubhkamnaye. Aaj hum aapke liye le kr aye hain dher saari shayari, quotes, message etc. Shani jayanti images hd.

Shani jayanti pics in hindi :-

” भले ही Murti बनकर बैठे है, पर मेरे साथ खड़े है
आये संकट जब भी मुझ पर, मुझ से पहले मेरे Shanidev लड़े है ।”

Shani jayanti images

” मौत का डर उनको लगता है, जिनके कर्मों मे दाग है ।
हम तो shanidev के भक्त है, हमारे तो खून में ही आग है ।”

Shani jayanti images hd

” आँधी तूफान से वो डरते है, जिनके मन में प्राण बसते है ।
वो मौत देखकर भी हँसते है, जिनके मन में shani dev बसते है ।”

Shani jayanti images hd me

Read more :- Shani jayanti wishes shayari quotes messages

” आग लगे उस जवानी कों
ज़िसमे शनिदेव नाम की दिवानगी न है।”

Shani jayanti photo

” बदलता तो हर जीव है
और जो ना बदले वाही तो शनिदेव है।”

” माया को चाहने वाला हमेेशा
बिखर जाता है,
और shani dev
को चाहने वाला हमेेशा निखर जाता है ।”

Read more :- Shani jayanti status whatsapp status

” दौलत छोड़ी, दुनिया छोड़ी,
सारा खजाना छोड़ दिया,
shanidev के प्यार में दिवानों ने
राज घराना छोड़ दिया ।”

” Shanidev के दरबार में, Duniya बदल जाती है रहमत से हाथ की Lakeer बदल जाती है लेता है जो भी Dil से, Shanidev का नाम एक पल में उसकी, Takdeer बदल जाती है। Happy shani jayanti.”

Shani jayanti instagram stats :-

” जैसे बिना तपे सोने में चमक नहीं आती,
और बिना छेनी हथौड़ी की मार के एक पत्थर मूरत नहीं बन सकती,
उसी तरह बिना संघर्ष के एक व्यक्ति के व्यक्तित्व में निखार नहीं आता,
और वह निखार मनुष्य के जीवन में शनिदेव लाते हैं।”

” शनि से जुड़े दोष दूर करने या फिर
उनकी कृपा पाने के लिए शनिदेव का
यह मंत्र काफी प्रभावी है।
इस मंत्र का जाप करने से
शनिदेव का प्रकोप शांत हो जाता है,
और उनकी कृपा प्राप्त होती है।
सूर्य पुत्रो दीर्घ देहो विशालाक्ष: शिव प्रिय:।
मंदाचार: प्रसन्नात्मा पीड़ां दहतु में शनि:।।
इसी तरह ॐ प्रां प्रीं प्रौं स: शनिश्चराय नम: मंत्र का
तीन माला जप करने से भी शनिदेव की कृपा प्राप्त होती है।

Happy shani jayanti.”

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close